Friday, 29 December 2017

आस का आँचल

212   2212   2212 

कौन-सा आँगन जहाँ  पर ग़म नहीं  
आस का आँचल मगर कुछ कम नहीं

रूठकर आँसू बहाना छोड़ दो
दर्द का बेइन्तहा आलम नहीं

ज़ख्म ताज़ा ही रहे तो क्या कहें
पालते नासूर फिर मरहम नहीं

मौज दरिया की समन्दर से मिली
उम्र भर की वह रवानी कम नहीं

राख में क्यों भूनते हो तल्खियाँ
आज जलवागर अँगारे कम नहीं

चाँदनी का नूर भी दिलक़श बहुत
बीत जाए दोपहर कुछ ग़म नहीं

क्या मुकम्मल मिल गया इस दौड़ में
क्यों समझते हो किसी में दम नहीं

तुम  मिले तो आज फिर अच्छा लगा
लोग मिलते हैं मगर महरम नहीं           

                                  कैलाश नीहारिका



                  

2 comments: