Sunday, 10 November 2013

खास पल

    212 222 1222

खास पल ही कोई रहा होगा
आपसे राज़े दिल कहा होगा

परवरिश सपनों की नहीं आसां 
किस तरह जाने सब सहा होगा

देख कर उसकी रंगतो-ख़ुशबू
गुफ़्तगू-भर शहद घुला होगा

फिर निगाहों से थामके वादा 
पास चुपके-से रख लिया होगा 

एक शोले को समझके जुगनू  
कौन आतिश से फिर बचा होगा

           कैलाश नीहारिका
        ( गगनाञ्चल  में प्रकाशित )