Saturday, 9 December 2017

तेरे मेरे बीच

    2122    222      2221
    
इक तबस्सुम है तेरे-मेरे बीच
राह रौशन है तेरे-मेरे बीच

हमख़याली जब भी रचती है कशिश 
इक सुकूं रहता तेरे-मेरे बीच

बारहा लोग बढ़ा देते हैं बात
गुफ़्तगू चलती तेरे-मेरे बीच

शाम-भर धीमी बतकहियों का सबब        
रंग लाया है तेरे-मेरे बीच

दूर होते ही सब लगता बेकशिश  
ये  नया मसला तेरे-मेरे बीच

साथ चलने को  हूँ बेशक  मौजूद
हौसला-भर है तेरे-मेरे बीच 
 
                   कैलाश नीहारिका 

2 comments: