Thursday, 12 July 2018

मृग मरीचिका

उस सूखती नदी के रेतीले तट पर
 नहीं डूबी मैं
रेत में भला कहाँ कोई डूबता है
हाँ, लेकिन  डूब ही तो गई
उस घनी चमकती रेत से उपजी
मृग मरीचिका में !

                         कैलाश नीहारिका 

2 comments: