Monday, 9 March 2015

सीढ़ियाँ

किताबों को
किताबों की कतारों की तरह
देखा  सदा मैंने
पता  नहीं चला कि
कब किताबें बन गईं
सीढ़ियाँ !

                                                                              
किताबों को
किताबों की दीवारों की तरह
देखा कभी मैंने
पता चला नहीं
किताबें बन गईं कब
खिड़कियाँ !

                  कैलाश नीहारिका


0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home