Wednesday, 11 May 2011

वापस


धरती की गोद से
मेघ का नाता
अज्ञात नहीं
बरसा तो फिर
लौटकर आया वहीँ

          -कैलाश नीहारिका 


0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home