Tuesday, 8 August 2017

जश्न की साँझ

बेहुनर हाथ किसी काबिल बना लूँ तो चलूँ
आस  की  डोर  हथेली में  थमा दूँ तो चलूँ

मोड़ दर मोड़ मिलेंगे जलजले  खतरों भरे
एक मुस्कान निगाहों में बसा लूँ तो चलूँ                    

रात-भर नींद करेगी बेवफ़ा-सी बतकही 
जश्न  की साँझ अँधेरों से बचा लूँ   तो चलूँ

                                                 कैलाश नीहारिका