Friday, 4 April 2014

कबाड़ी

जिसे मैं फैंक दिया करती हूँ
कचरे की मानिन्द
कबाड़ी ढूँढ लेता है
उसी में कुछ ज़रूरी।

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home