Friday, 27 September 2013

एक लय को थाम लिया



                2122  212  212  2222      

            मौसमों ने मचल के फिर नया ऐलान किया    
            अब ज़रूरी बहुत बदलाव सबने मान लिया  
       
            ज़िन्दगी ने तय किये फिर कई रिश्ते अपने
            मुश्किलों ने सिखाया इम्तहां आसान किया
         
            रूह के साज़ पर यूँ ही नहीं बजती सरगम  
            बिखरते सुर सब मिले एक लय को थाम लिया

            बारहा सूने किनारे उमड़तीं लहरें भी  
            वस्ल या हिज्र अब इस खेल को पहचान लिया

            सुर्ख होती आँख सैलाब भर बहते-बहते 
            ख़ास इक रहगुज़र है दर्द की यह जान लिया
        
                            कैलाश नीहारिका