Friday, 27 September 2013

रूह के साज़ पर



            महकते मौसमों ने  अनकहा  पैग़ाम  दिया
            सफर की मुश्किलों ने अनसुना इल्ज़ाम दिया
         
            ज़िन्दगी ने  किया तय इस तरह हमसे रिश्ता
            मुश्किलों-भर सिखाया  इम्तहां आसान किया

            रूह  के साज़  पर यूँ  ही  नहीं बजती सरगम
            राह  भूले  सुरों  ने  एक लय  को थाम  लिया

             उमड़ती- लिपटती  लहरें किनारों तक पहुँची 
             वस्ल का  राज़  कैसे हिज्र ने  पहचान  लिया

             सुर्ख  आँखें  हुईं  सैलाब से बेबस ऐसे
             चाह की रहगुज़र ने दर्द को अंजाम दिया 

                                                  कैलाश नीहारिका  


                                                

Wednesday, 4 September 2013

लहरों को लौट जाने दो

गुज़रते मौसमों  की तरह
आँधियों के वेगवान चक्रवातों को भी
गुज़र जाने दो

प्रतीक्षा एक बल है , संकल्प सौंपती है
सुझाते-सिखाते हुए
जीवन के रण-कौशल


अधूरे-से विषम समय में
सीखती हूँ अनमनी कभी
या कभी उत्साह से
श्रद्धा से प्राप्य  ग्रहण करने का कौशल भी !

लपकती लहरों का लौट जाना
सहज है , शाश्वत भी
डोर कैसे बाँध पाएगी उन्हें
लौट जाने दो
लहरों को, मौसमों को गुज़र जाने दो

                            कैलाश नीहारिका