Saturday, 10 June 2017

प्रत्यावर्तन



धड़कती शाखाओं पर
नये-नये अंकुरों को सहलाती है
असीसती निगाह मेरी
तो भाँप लेती हूँ इसी से
जड़ों को प्यार करने की अपनी कुव्वत को !

                      कैलाश नीहारिका 

1 Comments:

At 3 December 2017 at 22:46 , Blogger संजय भास्‍कर said...

superb!!!!!!!!!

 

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home