Saturday, 10 June 2017

प्रत्यावर्तन

मैं अक्सर जड़ों को प्यार करने  की चाहत लिए
देखती हूँ अपनी आशीषमयी दृष्टि को
स्पन्दित शाखाओं पर उगते
नवांकुरों को सहलाते हुए !

                                      कैलाश नीहारिका