Saturday, 5 December 2015

सूरज के छिपने तक


नहीं चाहिए मुझको
कोई विशाल भूखण्ड
जिसके निमित्त मैं दौडूँ
सूरज के छिपने तक !

हाँ, इक ठौर बहुत है स्नेहिल बसेरों के संग
शीत लहर में जहाँ अंगारे तापूँ , बतियाऊँ
और कभी लू की लपटों से बचकर बनी रहूँ
इक कर्मशील परिसर में
एकाकीपन की व्यथा से मुक्त !

सँगी-साथी ऐसे
जिनसे बाँटूँ  दाना-पानी
और सहज ही साझा कर लूँ
पलकों में अटके जलकण भी !

अँधियारे और अन्धी दौड़ से बाहर रहकर
फूँक दूँ ऊर्जा सारी
खर्च दूँ सारा अर्जन, कौशल !
स्नेह बटोरूँ
धरती की गलबहियों, बतकहियों से
जहाँ कहीं प्रकृति पुकारे
बाँहें पसारे जाऊँ !

क्यों न सहेज के रख लूँ
कुछ गान, हँसी और छोटे-छोटे खेल !
सच, नहीं दौड़ना मुझको
सूरज के छिपने तक !

                            कैलाश नीहारिका

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home