Friday, 27 September 2013

रूह के साज़ पर



            महकते मौसमों ने  अनकहा  पैग़ाम  दिया
            सफर की मुश्किलों ने अनसुना इल्ज़ाम दिया
         
            ज़िन्दगी ने  किया तय इस तरह हमसे रिश्ता
            मुश्किलों-भर सिखाया  इम्तहां आसान किया

            रूह  के साज़  पर यूँ  ही  नहीं बजती सरगम
            राह  भूले  सुरों  ने  एक लय  को थाम  लिया

             उमड़ती- लिपटती  लहरें किनारों तक पहुँची 
             वस्ल का  राज़  कैसे हिज्र ने  पहचान  लिया

             सुर्ख  आँखें  हुईं  सैलाब से बेबस ऐसे
             चाह की रहगुज़र ने दर्द को अंजाम दिया 

                                                  कैलाश नीहारिका  


                                                

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home